Ajmair Sharif ki Dargah me pehli bar kisi Shia Alim ne Majlis ko khitab kia

शिया व सून्नी एकता वक्त की एहम जरूरत है : मौलाना कलबे जवाद
दरगाह ख्वाजा गरीब नवाज अजमे मै पेहली बार किसी शिया आलिम ने तकरीर की, सभी एहले सून्नत ने भाग लिया
अजमेर 18 नवंबर :अजमेर शरीफ की मारूफ ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह पर मजलिसे ओलमाये हिन्द के महासचिव मौलाना सैयद कलबे जवाद नकवी ने पहली बार एहाताए नूर में मजलिसे उज्जा को संबोधित किया। मौलाना कल्बे जव्वाद नकवी दरगाह के सेवक यामीन हाशमी द्वारा आयोजित किए गए एक मजलिस के कार्यक्रम में भाग लेने आए थे ।मजलिस में दरगाह ख्वाजा गरीब नवाज के तमाम खादिमों और अन्य शिया व अहले सुन्नत लोगों ने बड़ी संख्या में भाग लिया।
संबोधन के दौरान मौलाना कलबे जवाद नकवी ने शिया व सुन्नी एकता के महत्व को समझाया और मुसलमानों को एकजुट होने के लिये आमंत्रित किया। मौलाना ने कहा कि शिया व सुन्नी एकता समय की मुख्य जरूरत है। साथ ही ऐसे लोगों से भी सावधान रहें जो मुसलमानों के भेष में आई0एस0 के समर्थक हैं। मौलाना ने कहा कि पुरी दुनिया मै हो रहे मुसलमानों के नरसंहार पर किसी का एक मौलवी का बयान तक नहीं आता मगर जब अमेरिका और अन्य देशों में हमले होते हैं तो सभी मुसलमान मौलवी बयान देते हैं।जूल्म कहीं भी हो और किसी पर हुआ हो हम उसकी निंदा करते हैं मगर ये दोहरा रव्वईया भी निंदनी है।
मौलाना ने कहा कि इस समय दुनिया में हर जगह मुसलमानों का नरसंहार किया जा रहा है मगर मुसलमान मूक दर्शक बने हैं। ऐसे लोगों से बचना बहुत जरूरी है जो एकता के नाम पर धोखा देते हैं।मौलाना ने कहा के हम अलग है औ एक नही है इसी लिये दुषमन ताकतें को बढावा मिल रहा है।अपने हितों को पाने के लिये एकता बहुत जरूरी है।
अजमेर शरीफ के एहाताए नूर में पहली बार किसी शिया धर्मगुरू ने तकरीर की है। मौलाना सैयद हसनैन बकाई ने बताया कि अजमेर शरीफ की खानकाह के सभी खादिमों ने मौलाना कल्बे जवाद नकवी का भव्य स्वागत किया और मजलिस में भाग लिया।

Related Images