اسرائیلی صدر کی ہندوستان آمد سے ملک کی شبیہ خراب ہوئی : شیعہ علماء

इजरायली राष्ट्रपति के भारत आने से देश की छवि दागदार हुई : शिया उलेमा
लखनऊ: दुनिया भर में शियों की हो रही टारगेट किलिंग, इमाम बाड़ों व मस्जिदों पर हो रहे आतंकवादी हमलों और भारत में इजरायली राष्ट्रपति यूवेन रोलन के आगमन के खिलाफ आज मौलाना सैयद कल्बे जवाद नकवी के घर पर उलेमा की एक बैठक आयोजित हुई। जलसे में मजलिसे उलेमाये हिन्द के महासचिव मौलाना सैयद कल्बे जवाद नकवी ने कहा कि नाइजीरिया में सऊदी अरब की आर्थिक मदद से शियों पर जो अत्याचार हो रहा वह निंदनीय है,नाईजीरिया में शियों का नरसंहार जारी है और उलेमा पर भी अत्याचार किया जा रहा है, लेकिन इसके बावजूद संयुक्त राष्ट्र और मानवाधिकार संगठन मूकदर्शक बने हुयें हैं, यह निंदनीय है। मौलाना ने कहा कि अब तक अयातुल्ला जकजाकी को रिहा नहीं किया गया है और अन्य शिया उलेमा का भी उत्पीडन जारी है, अफसोस है कि नाइजीरिया में मानवता के नरसंहार पर दुनिया चुप है। मौलाना ने कहा कि इस समय पूरी दुनिया में शियों और अहलेबैत अ0स0 से मुहब्बत करने वाले मुसलमानों को आतंकवाद का निशाना बनाया जा रहा,करबला में जायरों,अकीदतमंदों और पवित्र इमारतों को आतंकवादी निशाना बना रहे हैं,पाकिस्तान में मजलिसों पर हमले हो रहे हैं ,सुफियों की दरगाह शाह नूरानी पर आई0एस0 के आतंकवादी हमले में दर्जनों लोगें मारे गए हैं लेकिन पाकिस्तानी सरकार आतंकवाद की समाप्ति के लिए ठौस कदम नहीं उठा रही है यही कारण है कि अब पाकिस्तान में शियों के साथ साथ आम मुसलमानों को भी मारा जारहा है। मौलाना ने भारत में इजरायली राष्ट्रपति के आगमन का विरोध किया और कहा कि हमारे देश मैं इजरायली राष्ट्रपति के आने से देष की मानवता दोस्त छवि दागदार हुई है। बैठक में मौजूद सभी उलेमा ने नाइजीरिया में सऊदी अरब की आर्थिक सहायता से शियों के हो रहे नरसंहार, कर्बला और पाकिस्तान में शियों पर हो रहे लगातार हमलों और पाकिस्तान में सूफी शाह नूरानी दरगाह पर हुए आई0एस0 हमले की कड़े शब्दों में निंदा की ।उलेमा ने कहा पाकिस्तान की नवाज सरकार आतंकवाद से मुकाबले में पूरी तरह विफल रही है। यही कारण है कि आई0एस0 जैसे आतंकवादी संगठन लगातार मुसलमानों और खास कर शियों की हत्या कर रही है । दरगाह शाह नूरानी पर हुए आतंकवादी हमले के सभी उलेमा ने कड़े शब्दों में निंदा की । जलसे में इस्राएल के राष्ट्रपति के भारत दौरे की भी कडी निंदा की गई ।उलेमा ने कहा कि हमारा देश पूरी दुनिया में शांति और मजलूमों के समर्थन के आधार पर अपनी अनूठी पहचान रखता है, इसलिए ऐसे देश से संबंध रखना जो फिलिस्तीनियों के मजलूमों का हत्यारा है हमारे देश की अम्न पसंद छवि का दागदार करता है। सभा में मौलाना मोहम्मद मियां आब्दी, मौलाना रजा हुसैन, मौलाना तसनीम मेहदी, मौला ना इफ्तिखार हुसैन इन्किलाबी मौलाना इब्ने अली वाइज मौलाना इस्तेफा रजा, मौलाना सिराज हुसैन, मौलाना असीफ हुसैन मौलाना अकील अब्बास, मौलाना शबरेज, मौलाना मोहम्मद हुसैन, मौलाना नजर हुसैन, मौलाना निसार अहमद जेन पूरी मौलाना मूसी रजा, मौलाना एहतेशाम हसन, मौलाना जव्वार हुसैन, मौलाना फिरोज हुसैन, मौलाना शबाहत हुसैन, मौलाना हसन जाफर ,मौलाना सरताज हुसैनए मौलाना शाहनवाज हूसेन,मौलाने मो0 इसहाक,मौलाना मंजर शाफ़ई ,मौलाना हैदर अब्बास रिजवी, मौलाना रजा इमाम, मौलाना कमरूल हसन, मौलाना सरकार हुसैन अन्य उलेमा ने भाग लिया।
Read more at: https://www.instantkhabar.com/item/2016-11-16-lucknow.html

Related Images